कार्यक्रम के बारे में

"समर्पण"- बदलाव लाएं और संतुष्टि महसूस करें

"समर्पण" हरियाणा सरकार द्वारा शुरू किया गया स्वैच्छिक कार्यक्रम है। यह प्रदेश के उन बेटे-बेटियों को एक मंच प्रदान करता है, जो दूसरों की सेवा करना चाहते हैं। साथ ही यह उन्हें हरियाणा के हर नागरिक के कल्याण को सुनिश्चित करने के लिए सरकार द्वारा शुरू की गई अनेक पहलों में सहयोग के लिए भी सक्षम बनाता है।

जैसा कि महात्मा गांधी ने कहा था कि "स्वयं को खोजने का सबसे अच्छा तरीका दूसरों की सेवा में डूब जाना है। " कहा जाता है कि यदि आप मात्र एक व्यक्ति के जीवन में भी बदलाव ला देते हैं तो आप संसार को सदा के लिए बदल देते हैं। यह मंच आपको ऐसा करने का अवसर देता है यह बात कोई महत्व नहीं रखती कि आपके पास क्या है और आपने क्या अर्जित किया है, बल्कि महत्व इस बात का है कि आपने दूसरों की ऊपर उठने में कितनी मदद की है। साथ ही इस बात का भी महत्व है कि आपने समाज से जो अर्जित किया है, उसे किस प्रकार समाज को लौटाते हैं।

"समर्पण" का लक्ष्य समाज के जरूरतमंद व्यक्तियों को सशक्त करने के लिए अपनी सामथ्र्य से भी ऊपर उठकर काम करने की इच्छा शक्ति रखने वाले व्यक्ति की राह को आसान करना है। कहा गया है कि जो दूसरों के बोझ को कम करता है, उससे अधिक सुखी कोई भी नहीं है।

अपने नाम के अनुरूप "समर्पण" एक ऐसा मंच प्रदान करता है, जिसके माध्यम से समाज का ऋण चुकाने और हरियाणा में समाज के उत्थान के पहिए की धुरी बनने का इच्छुक व्यक्ति समाज सेवा के लिए अपना समय दे सकता है और भरसक प्रयास कर सकता है। इस स्वैच्छिक सेवा का सर्वाधिक महत्वपूर्ण पहलू यह है कि यह व्यक्ति आधारित है।

समर्पण के माध्यम से पेश की गई स्वैच्छिक सेवाएं विभिन्न क्षेत्रों में सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं से जुड़ी हैं। इनमें शिक्षा, महिला एवं बाल विकास, किसान कल्याण, कौशल विकास, पर्यावरण संरक्षण, खेल, सामुदायिक स्वच्छता, सोशल ऑडिट के माध्यम से सर्विस डिलीवरी और चरित्र निर्माण शामिल हैं।

"दूसरों के लिए आप क्या कर रहे हैं" यदि आप इस सवाल का जवाब ढूंढना चाहते हैं, तो हरियाणा सरकार जवाब को ढूंढने में आपकी मदद करना चाहती है और आपको "समर्पण" के माध्यम से हरियाणा में सकारात्मक बदलाव का वाहक बनने के लिए आमंत्रित करती है। दूसरों के जीवन में बदलाव लाएं और अंतर महसूस करें।